Status

अपनी औकात में रहना सीख बेटा… वर्ना जो हमारी आँखों में खटकते है,वो श्मशान में भटकते है

बादशाह हो या मालिक सलामी हम नही करते… पैसे हो या कोई राजकुमारी गुलामी हम नही करते..

इतने भी ‪प्यारे‬ नही हो ‪तुम‬ बस मेरी ‪चाहत‬ ने तुम्हे ‪सर पर चढा रखा‬ है

मर्द का जिगरा बड़ा होना चाहिए… मूछे तो बिलियों की भी बड़ी होती है

लोग क़दर तभी करते हैं जब उन्हें मुँह लगाना छोड़ दो…..

मेरी दिल की दिवार पर तस्वीर हो Teri और तेरे हाथों में हो तकदीर मेरी.

ना मैं गिरा और ना मेरी उम्मीदों की मीनारें गिरी … पर मुझे गिराने में कई लोग बार – बार गिरे…

छोरी पे लाइन अर कुत्ते के लठ सोच समझ के मारना चाहिए गेल भी हो सके है

ध्यान ते सुन लो रे सारे किसे ते इतना प्यार मत करियो की थम उन ने लड्डू लड्डू कहता रहो और वो थारा भोरा-भोरा खिंडा जाव.

Share this :